Followers- From 17 May 2010.....'til today

Sunday, November 14, 2010

बाल दिवस



















बात उन दिनों की है जब खुशिया चाचा स्कूल में पढ़ता था। उस के  स्कूल में एक शिक्षा- इन्स्पेक्टर  आया । वह बच्चों की  पढ़ाई का स्तर जानने के लिए स्कूल की सबसे होशियार मानी जाने वाली कक्षा ( खुशिया चाचा की कक्षा) में बच्चों से सवाल पूछने लगा ।
उसने बोर्ड पर एक अंग्रेज़ी का शब्द Nature  लिख दिया । बच्चों को शब्द पढ़ने के लिए कहा । बच्चे बोले, '' लो सर यह भी कोई मुश्किल सवाल है.....आपने तो 'नटुरे ' लिखा है । आपको माने तो तब अगर आप खुशिये के सवाल का उत्तर बता दें ।''
खुशी राम ने सुना तो  खुशी के मारे फूलकर कुप्पा हो गया । वह  अकड़कर खड़ा हो गया और बोला,  ''सर क्या आप बता सकते हैं  कि बकरी घास तो लम्बी- लम्बी खाती है....फिर वह मींगने गोल-गोल क्यों करती है ?''
इतना सुनते ही सारी क्लास  खिल-खिलाकर हंसने लगी ।
इन्स्पेक्टर  साहिब  तो  nature का pronunciation 'नटुरे  ' सुन कर पहले से ही लाल-पीले हो रहे थे और अब खुशिये के सवाल और बच्चों की हंसी से और भी भड़क गये और सीधे हैड मास्टर के आफ़िस में  पहुंच कर बोले - ये बच्चों को आप लोग क्या सिखाते  हो ? एक तो  Nature का  उच्चारण नटुरे करते हैं और ऊपर से बतमीज़ी  से उल्टे-सीधे सवाल मुझसे पूछते हैं। मैं तुम्हारी स्कूल की ऐसी खराब रिपोर्ट  बनाऊंगा कि  तुम्हारे स्कूल की मान्यता ही खत्म करवा दुंगा !
 हाथ जोड़कर हैड मास्टर बोला, ''  इन्स्पेक्टर  साहब ऐसा जुल्म मत करना ,  वर्ना हमारे  स्कूल के छात्रों का तो फ़टुरे ही (future) खराब हो जायेगा !

 हरदीप संधु ( बरनाला) 

14 comments:

बूझो तो जानें said...

मज़ा आ गया पढकर. सुन्दर रचना.

संजय भास्कर said...

बाल दिवस की हार्दिक शुभकामनायें.....

कविता रावत said...

सुन्दर रचना.

बाल दिवस की हार्दिक शुभकामनायें.....

यशवन्त said...

जब मैं पढता था तब कुछ बच्चे शरारत में अच्छा न पढ़ाने वाले टीचर्स को PPHF कहते थे;यानि प्राइमरी पास और हाई स्कूल फेल.
आपने खुशिया और उसके हेड मास्टर के माध्यम से ऐसे ही टीचर्स की ओर इशारा कर के वर्तमान शिक्षा पद्दति पर व्यंग्य किया है.जो बिलकुल सटीक है.
बाल दिवस की शुभ कामनाएं!
सादर-

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

हा हा हा .. 'नटुरे और फ़टुरे ज़बरदस्त रहा ..

सहज साहित्य said...

बहुत खूब हरदीप जी!लटुरे और फ़टुरे का उच्चारण ।
सरकारी स्कूलों में को busy बसी बोलते भी सुने गए हैं।

VIJAY KUMAR VERMA said...

sundar post...apna bachpan yad aa gaya...

ali said...

अपने पंजाबी दोस्तों से सुन रखा था !

निर्मला कपिला said...

हा हा हा . एक करेला तो दूजा नीम चढा। बडिया। बाल दिवस की शुभकामनायें।

वन्दना अवस्थी दुबे said...

वाह..क्या बात है. एकदम बाल दिवस के माफ़िक.

Prem Farrukhabadi said...

सुन्दर रचना.
बाल दिवस की हार्दिक शुभकामनायें.....

हरकीरत ' हीर' said...

बहुत खूब .....!!

Simran kaur nagi said...

Nice Didi.

Sunil Kumar said...

बाल दिवस की हार्दिक शुभकामनायें...