Followers- From 17 May 2010.....'til today

Saturday, March 19, 2011

धी जन्मी / जन्मी बिटिया




अज फेर उस दा उदास चिहरा दस रिहा सी कि सस ने फेर कलेश कीता होणा । घरवाल़ा वी सिधे मूह गल ना करदा ।जदों बोलदा बस पुठा ही बोलदा, “इक पुत नहीं दे सकी मैनू। तिन पथर मारे मेरे मथे। मेरा बेड़ा गरक करता एस ने। मैनू काणी कौडी दा नी छडिआ । जी करदा थोनू चौहां नू ज़हिर दे दवां ।” सस उतों होर ताअने मारदी, ” नी कलजोगणे….मेरे घर नू खागी नी तू….डैणे…तिन पथर जम धरे…कुलछणी…बदकार किसे थां दी……इॱक पोते दा मूह नी दखा सकी ।”




सस ते पती दे ताअने – मिहणे सुण ओह उदास हो जांदी….सोचदी कि इन्हां मिहणिआं विचों ओह किहड़े इनामां दी भागीदार है। भरे मन नाल़ मेरे कोल़ आ जांदी। उस दा रोण मींह दी वाछड़ वांग उॱतर आउंदा। कई वार उस नू समझाइआ…बई एस हालत विॱच खिॱझे-खपे रहिण नाल़ कुख ‘च पल रहे बचे ‘ते माड़ा असर पैंदा।


अज जदों ओह मेरे कोल़ आई तां मैं मनुखी सरीर दी बणतर बारे इक किताब पड़्ह रही सी। उस दीआं रो-रो के सुॱजीआं अॱखां उस नाल़ होई – बीती दी कहाणी दस रहीआं सन । मैं ओस नू कोल़ बिठा के, हुणे-हुणे ‘कठी कीती जाणकारी अनुसार समझाउणा शुरू कीता…….


” मनुखी सरीर दे हर कोश ( सैल) विच 23 करोमोसोमां दे 2 समूह हुदे ने…जाणी कि 46 करोमोसोम । इन्हां दोहां विचों इक समूह मां वलों ते दूजा पिओ वलों आउंदा है। करोमोसोमां दे 22 जोड़े साडे नैण-नकश तराशदे ने ते अखीरला जोड़ा लिंग  । आखरी जोड़ा ऐक्स-ऐक्स( XX) है तां लड़की अते जे ऐक्स-वाई(XY) है तां लड़का जनम लैंदा है। मतलब कि अगर गरभधारण समें जे वाई (Y) करोमोसोम नहीं है तां होण वाल़ा बॱचा लड़की होवेगी ।


रौल़ा तां बस ‘ वाई ‘ (Y) करोमोसोम दा है….जो औरतां विच है ही नहीं। भरूण बणन समें मां वलों तां ऐक्स (X) करोमोसोम ही होणा है ते पिओ वलों ऐक्स(X) जां वाई (Y) विचों कोई इक…..ते एस तरां पिओ वाल़ा करोमोसोम ही धी जां पुतर दे आगमन नू निरधारत करदा है ।” मैं इको साह लमा-चौड़ा साइंस दा लैकचर दे दिता।

            मरद                         औरत
 

सुणदे-सुणदे ओस दे चिहरे ‘ते चमक आ गई….. ” अछा…..” ओस ने खिले चिहरे नाल़ हुगारा भरिआ….जि़वें ओस दा सारा दुॱख-दरद कोहां दूर भॱज गिआ होवे । पर दूजे ही छिण उह फेर किसे डूघे गम दे समुदर विॱच गोते खांदी कहिण लगी, ” की फाइदा इन्हां किताबां ‘च लिखीआं दा। मातड़-धमातड़ ने तां फेर वी एथे नरक ही भोगणा ….. रब किसे नू तीमीं दी जून ‘च ना पावे ।”


ओस दा गभीर चिहरा मैनू सोचां ‘च पा गिआ…..


धी पिछों धी जमी


कुख कसूरवार


अदिख ज़िमेवार !


धी जनमी


औरत दोशां भागी


असली दोशी बागी !

हरदीप कौर सन्धु
( बरनाल़ा)




11 comments:

सहज साहित्य said...

बहन यह अच्छा प्रयोग है । इसे ज़ारी रखिए । हमें अपने देश की भाषाएँ तो थोड़ा बहुत समझनी ही चाहिए । बहुत सुन्दर

मनोज कुमार said...

अच्छा प्रयोग है। बढिया लगा।

Dilbag Virk said...

baat to aapki shi hai lekin andhvisvasi log ise mane tab n

pta nhi kab bhart men beti ko smman milne lgega

Dr (Miss) Sharad Singh said...

Very thoughtful post...

Have a happy and colorful Holi!

kshama said...

Kaash! Log aapke bhaav samajhen!
Holee kee anek shubhkamnayen!

Bhushan said...

हिंदी विच पंजाबी लिखणी होवे ताँ बहुत ही सहली है.
कहाणी पढ़ के कई तरां दे ख्याल आए ते लग्गा कि कुड़ियाँ ही चंगियाँ होंदियाँ हन. रौनक ता इहनां ने ही लगाणी है. इह तोहफा भगवान ने इहनां नूँ ही दित्ता है.

Kajal Kumar said...

मुझे अच्छा लगता है कि मैं जिस समाज से आता हूं वहां बेटी-बेटे एक समान माने जाते हैं.

अनामिका की सदायें ...... said...

pure hindi hai jo puri tarah se samajh nahi aayi.

lekin sach to yahi hai ki kasoor aadmi ka aur bhoge aurat hi.

me to kahti hu ye shiksha har sas ko aur pati ko to kam se kam honi hi chaahiye.

Sunil Kumar said...

अच्छा प्रयोग है बहुत सुन्दर !

Babli said...

बहुत बढ़िया पोस्ट! उम्दा प्रस्तुती!

दर्शन कौर धनोए said...

कुडिया ही साडे घर बिच रोंनका लगादी हे --वाहेगुरु उनानु चंगी सोबत दे