Followers- From 17 May 2010.....'til today

Wednesday, April 6, 2011

रिश्ते

                   सीख लिया ये जिस दिन हमने



             बिना हिसाब रिश्ते निभाना॥


             देख लेना तुम फिर उसी दिन


             कुछ और ही होगा ज़माना !!
 
                      हरदीप कौर सन्धु
                                      (बरनाला)

10 comments:

Udan Tashtari said...

देखो, कब सीख पाते हैं..बढ़िया.

सहज साहित्य said...

हरदीप जी आपने एकदम सही कहा है ।मेरा भी यही सोचना है कि जहाँ हिसाब -किताब की लू-लपट होती है , वहाँ रिश्ते कुम्हला जाते हैं और जहाँ सच्चा प्यार होता है , वहाँ रिश्ते सदा बहार रहते हैं । हिसाब-किताब वाले दूकान चला सकते हैं सच्चा प्यार-सम्मान न कर सकते हैं न पा सकते हैं । आपको दिली मुबारकबाद !

Dilbag Virk said...

lazavaab

guna-bhag se rishte kab chlte hain
sunder parstuti

डॉ टी एस दराल said...

अच्छा लगेगा । लेकिन ऐसा दिन आये तो !

Apanatva said...

wah kya baat hai...

badiya......

Kailash C Sharma said...

बहुत सच कहा है...बहुत सुन्दर

kshama said...

Wah! Kya baat kahee hai!Par na jaane wo din kab aayegaa!

amrendra "amar" said...

sundr kathan

SURINDER RATTI said...

Hardeep Ji,

Bahut Sunder

Surinder Ratti
Mumbai

Bhushan said...

बहुत सुंदर अभिव्यक्ति.