Followers- From 17 May 2010.....'til today

Tuesday, May 17, 2011

लाडो-बिटिया

आज 17 मई है | आज "शब्दों का उजाला"' शुरू किए पूरा एक वर्ष हो गया है ....और इत्फाक  से आज मेरा जन्म दिन भी है  ! आज मैं आपके लिए  'लाडो-बिटिया ' कविता पेश करके अपना जन्म-दिन मना रही हूँ !





















एक बेटी के मन की बात 
बात पुरानी वही आज 
मैं बताने लगी हूँ 
माँ के आँचल की बात 
बाबुल के महलों की बात 
मैं सुनाने लगी हूँ 
जिस दिन बिटिया जन्मी 
न दी किसी ने बधाई 
बिटिया को सीने से 
लगाकर बैठी माँ की 
पिता ने की खूब 
हौसला - अफ़जाई 
और कहा-
तुम देखना अपनी बिटिया 
लाखों में एक होगी 
कहती हैं नन्हीं उँगलियाँ 
हर कला में वह कुशल होगी 
लाडो बिटिया ने भी 
माँ -बाप के आगे 
न कभी आँख उठाई 
न  कभी खोली थी जुबान 
तन - मन से उसने 
माँ -बाप के किए 
पूरे सब अरमान 
प्यार भर आँचल में 
लाडो ससुराल चली गई 
बाबुल का आँगन वह 
सूना -सूना सा कर गई 
अब मीलों दूर बैठी भी 
माँगती है बस यही दुआएँ 
बाबुल के महलों में 
चलती रहें हमेशा 
सुख की शीतल हवाएँ
बेटी की बलाएँ लेती 
प्यार भरा आशीष  देती 
आँचल में भरकर उसे 
मन ही मन माँ सोचती -
पूत करें घर का बँटवारा
बिटिया दुःख है बाँट लेती 
दुःख - सुख सुनकर माँ बाप के 

दिल का दर्द बिटिया हर लेती 
 जन्म देकर बेटी को 
फिर क्यों ......
एक माँ अभागन  कहलाती 
जिस दिन बिटिया जन्मी थी 
'ओ मन ' तूने....
 ख़ुशी क्यों नहीं मनाई 
लाडो बिटिया के जन्म पर 
लोग देते क्यों नहीं बधाई  ? 
हरदीप कौर सन्धु
(बरनाला)

31 comments:

Udan Tashtari said...

अरे वाह जी, डबल डबल बधाई...ब्लॉग के और आपके जन्म दिवस की बहुत बधाई एवं शुभकामनाएँ...डबल मिठाई खिलाईये.

डॉ टी एस दराल said...

लाडो बिटिया के जन्म पर , लोग क्यों नहीं देते बधाई ?
इंसानियत पर बहुत बड़ा सवाल ।
जन्म पर न सही , जन्मदिन पर आपको बहुत बहुत बधाई ।
और ब्लॉग की पहली वर्षगांठ की भी बधाई ।

Bhushan said...

मेरी दोनों बेटियों का जन्म मई में हुआ था. दूसरी बिटिया के होने पर मेरे घर का भी फ़यूज़ उड़ा था परंतु जल्द बिजली बहाल हो गई जब पिता जी ने उसका नाम रामचरित्र रख दिया जो आगे चल कर रामप्रिया हो गया.

Bhushan said...

बहुत सुंदर रचना. ਪੰਜਾਬੀ ਪਾਠ ਵਿੱਚ ਜੋ ਮਜ਼ਾ ਆਇਆ ਉਹ ਤਾੰ ਅਲਗ ਹੀ ਸੀ.

Babli said...

आपकी उत्साह भरी टिप्पणी और हौसला अफजाही के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!
ब्लॉग की पहली वर्षगांठ पर बहुत बहुत बधाई!
आपके जन्मदिन पर ढेर सारी बधाइयाँ और शुभकामनायें!
बहुत सुन्दर और शानदार रचना लिखा है आपने! उम्दा प्रस्तुती!

ज्ञानचंद मर्मज्ञ said...

आपको जन्म दिन की ढेरों बधाईयाँ और शुभकामनाएँ !

ब्लॉग के एक साल पूरे हो जाने पर मेरी बधाई स्वीकार करें !

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

हरदीप जी ,

जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई ...

ब्लॉग के एक साल पूरा होने पर भी बधाई ...

और कविता तो बस कमाल की ही लिखी है ..सुन्दर प्रस्तुति

सहज साहित्य said...

लाडो बिटिया जो आज के दिन दुनिया में आई थी ।
शब्दों के उजाला की ज्योति धरती पर जगाई थी ॥
इस दुनिया ने था जाना उसे हर-दीप के नाम से ।
हमने तो उसमें सगी बहन की पाक सूरत पाई थी ॥
आज के दिन कहता है दिल -तू ऐसा उजाला बने ।
रौशन हो सारा यह जग ,रोज हर पल दिवाली मने॥

वन्दना said...

ब्लॉग के और आपके जन्म दिवस की बहुत बधाई एवं शुभकामनाएँ.

Dr.Bhawna said...

Apko bahut bahut hardik shubkamnayen...

दिगम्बर नासवा said...

जनम दिन की बहुत बहुत शुभकामनाएँ ...

ब्लॉग के जन्म दिवस की बहुत बधाई ...

कमाल की कविता के लिए भी बहुत बहुत बधाई ....

डॉ. हरदीप संधु said...

आप सबकी शुभकामनाओं के लिए हार्दिक रूप से आभारी हूँ ।
मेरे पास शब्द नहीं हैं आपका सबका धन्यवाद करने के लिए ....
होंठ सिले हैं
धन्यवाद बोलता
दिल है मेरा !
हरदीप

अमिता कौंडल said...

बहुत सुंदर कविता है हरदीप जी

पिता ने की खूब
होसला- अफजाई

अब मीलों दूर बैठी भी
मांगती है बस येही दुयाएँ
बाबुल के महलों मैं चलती रहें
सदा सुख की शीतल हवाएं

आपने मेरी मन की बातों को कागज पर उतार दिया
जन्म दिन की ढेरों शुभकामनाये.
सादर
अमिता कौंडल

mahendra srivastava said...

आपके ब्लाग का साल पूरा होने पर बधाई..
रचना भी बहुत सुदर है।

Kailash C Sharma said...

बहुत सार्थक और मर्मस्पर्शी रचना..आपके और आप के ब्लॉग के जन्मदिन पर हार्दिक बधाई और शुभकामनायें!

H P SHARMA said...

janmdin aur blog kee varshgaanth par anant shubhkamnaaye

Rachana said...

अब मीलों दूर बैठी भी
मांगती है बस येही दुयाएँ
बाबुल के महलों मैं चलती रहें
सदा सुख की शीतल हवाएं
bahut sunder bhav
us pyari bitiya ko jo aaj badi ho gai hai aur apne mata pita ka naam raoushan kar rahi hai janmdin ki bahut bhaut badhai
rachana

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

हरदीप जी जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें

girish pankaj said...

badhai..aapko ek din baad hi sahi...

Patali-The-Village said...

आपको जन्म दिन की ढेरों बधाईयाँ और शुभकामनाएँ|

prerna argal said...

badhaai aapko aapka aek saal poora karane ke liye.betiyan sach main bahut achchi hotin hain .maine bhi apne lekh ""aurat hi aurat ki dushman"main is vishay ko uthayaa hai.aap bhi padiye aur aashirwaad ke rup main comments dijiye.aapki rachanaa dil ko choo gai.badhaai aapko/

Dilbag Virk said...

आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की जा रही है
कृपया पधारें चर्चा मंच

Maheshwari kaneri said...

जन्म दिन और ब्लांग का एक वर्ष पूरा होने पर बहुत- बहुत बधाई … रचना बहुत सुन्दर है।

जाट देवता (संदीप पवाँर) said...

वाह क्या बात है,
दो-दो खुशी एक साथ,

G.N.SHAW said...

दिल छुगई कविता ! काश मुझे भगवान ने एक बेटी दी होती !

डा. अरुणा कपूर. said...

ब्लॉग के और आपके जन्म दिवस की बधाई और शुभकामनाएँ... सुन्दर रचना!

डॉ. हरदीप संधु said...

मैं आप सबकी शुभकामनाओं के लिए मैं एक बार फिर से आपका धन्यवाद करना चाहती हूँ |
आपसे मिले प्यार और सम्मान को देखकर मेरे पास शब्दों की कमी होने लगी है ....आपका धन्यवाद कैसे करूँ ?

धन्यवाद से
नहीं बना ऊपर
कोई भी शब्द !
हरदीप

Dr. vivek potdar said...

नमस्तॆ,
सुंदर रचना कॆ लियॆ बहुत बहुत धन्यवाद ! मॆरी साईट पर भी आप अवश्य पधारॆं !

ZEAL said...

Belated birthday wishes !

Dr (Miss) Sharad Singh said...

ब्लॉग के और आपके जन्म दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएँ...


(यात्राओं के कारण कई दिन बाद ब्लॉग पर लौटी हूं.इस लिए देर हुई...)

SUDHA said...

Tujhe phool kahoon ya moti,
tujhe seep kahoon ya jyoti,
mera naam karegi roshan,
jag mein meri pyari beti.
Hardeep ji aapko sundar kavita ke liye bahut bahut badhayiyan.Aapne hamsab ke dil ki baat kah di hai.
Sudha Dwivedi,Lucknow.