Followers- From 17 May 2010.....'til today

Monday, May 30, 2011

अनुभूति और मैं

अनुभूति और मैं
अनुभूति भारत की साहित्यिक , सांस्कृतिक और दार्शनिक विचारधाराओं की रचनात्मक अंतर्राष्ट्रीय पत्रिका है ।  यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को प्रकाशित होती है। श्रीमती पूर्णिमा वर्मन जी इस की संपादक है अनुभूति के मासिक पाठक ३ लाख से भी ऊपर है ।
आज 30 मई 2011 को मेरी  कुछ कविताएँ  इस पत्रिका  में प्रकाशित हुईं  हैं |
 यह मेरे लिए सौभाग्य की बात है।

 हर अच्छे काम के लिए आपका कोई न कोई मार्ग दर्शन करता है | मेरे लिए यहाँ वो नाम है  श्री रामेश्वर कम्बोज हिमांशु जी का....जिनका आज मैं  ह्रदय से धन्यवाद करना चाहती हूँ| मैं उनकी पाठशाला की वो छात्रा हूँ जिसने इस पाठशाला में  दाखिला लेने में बहुत देर कर दी ...लेकिन अब मैं तमाम उम्र वहाँ की छात्रा बने  रहना चाहती हूँ !      
हरदीप कौर सन्धु ( बरनाला) 









10 comments:

daanish said...

अनुभूति पत्रिका में
आपकी रचनाएं प्रकाशित होने के
शुभ अवसर पर
हार्दिक बधाई .

Kailash C Sharma said...

हार्दिक बधाई..

संजय भास्कर said...

अनुभूति पत्रिका में
आपकी रचनाएं प्रकाशित होने के पर
....बहुत बहुत बधाई......

संजय भास्कर said...

बहुत बहुत बहुत बधाई.

Udan Tashtari said...

बधाई हो ...आप तो छा अईं एकदम साहित्यजगत पर....ऐसे ही राज करते रहें...हमें भी अच्छा लगेगा कि इनको हम जानते हैं, बताने में. :)

kunwarji's said...

badhaai ho ji...

kunwar ji,

Bhushan said...

बहुत- बहुत बधाई हो आपको. ਤੁਸੀੰ ਛਾ ਗਏ ਡਾਕਟਰ ਸਾਹਬ. शुभकामनाएँ.

Deendayal sharma said...

Dr. Hardeep kaur ji.
Sat shri akaal!
apki bhavukta aur samvedansheelta ko heartly naman.....
apka shubhecchu
Deendayal sharma

Dilbag Virk said...
This comment has been removed by the author.
Dilbag Virk said...

अनुभूति पत्रिका में
आपकी रचनाएं प्रकाशित होने के
शुभ अवसर पर
हार्दिक बधाई .