Followers- From 17 May 2010.....'til today

Thursday, March 21, 2013

फ्रेम अधूरा


1.
frame-1खाली है फ्रेम 
दीवार पे लटके 
सूना है घर ।
2 .
अपूर्ण फ्रेम 
काँपते हाथों टँगे 
चुप्पी है छाई ।
3 .
 फ्रेम अधूरा
खोई एक तस्वीर 
धूल है जमी ।
4 .
frame-2मौन हैं सब 
खाली फ्रेम बोलता 
दिल डोलता ।
5 .
खाली है फ्रेम 
अँखियाँ  ढूँढ़ रही 
भावी चेहरा  ।

डॉ हरदीप  सन्धु

Sunday, March 17, 2013

राह कँटीली


1.
नहीं रुकेंगे 
जब तक है दम 
उड़े चलेंगे 

2.
राह कँटीली 
चरण चुभे शूल 
बनेंगे फूल 

3.
साँझा आँगन 
शब्दों के मोती चुन 
सजाएँ हम 


डॉ हरदीप सन्धु 

Wednesday, March 13, 2013

कुछ हाइकु

 

1
नेह -अमृत          
अँजुरी भर, देखा
अक्स तुम्हारा
2
लबों पे चुप्पी
बोल रही अखियाँ
ढूँढ़े किनारा
3
मौन में मन
रोंआँ  -रोंआँ  नहाया
मीत को पाया
डॉ हरदीप कौर सन्धु