Followers- From 17 May 2010.....'til today

बलाग के बारे

जैसे दीप को जलाने के बाद हमें रोशनी माँगने की ज़रूरत नहीं प‍ड़ती। रोशनी अपने आप मिल जाती है।

इस तरह शब्द हमें भीतर से रोशन करते है। शब्द से शब्द जोड़ते चलिए, कहानी खुद - ब- खुद बन जाती है। 
                                            बिखरे विचारों को
                                             पुरानी यादों को
                                          दोस्तों की बातों को
                                        शब्दों के बना कर दीप
                                                आप को........
                                        और आप के घर को.... 
                                          उजाला करने का
                                             एक छोटा सा.....
                                                प्रयास